फाइल क्या है? | फाइल कितने प्रकार की होती है?

0
2190

फाइल ज्यादातर कंप्यूटर और मोबाइल के लिए इस्तेमाल में लिया जाने वाला शब्द है। फाइल शब्द के बारे में बहुत ही काम लोग जानते हैं। फाइल शब्द को आमतौर पर किसी भी सरकारी या प्राइवेट ऑफिस के कागज वाली फाइलों से जोड़ा जाता है। हम आपको इस आर्टिकल के जरिए बताएंगे कि फाइल क्या है? और फाइल के प्रकार क्या है?

फाइल क्या है? | What is File in Hindi

File Kya Hai
File Kya Hai

फाइल, डाटा का एक कलेक्शन है जिसे एक file name और icon के द्वारा पहचाना जाता है। कंप्यूटर में मौजूद पिक्चर, ऑडियो, वीडियो, डॉक्यूमेंट, डाटा लाइब्रेरी, ऍप्लिकेशन्स और डेस्कटॉप आइकॉन आदि सभी को फाइल्स के श्रेणी में रखा जाता है।

कंप्यूटर में इस्तेमाल होने वाली सभी तरह के प्रोग्राम और सॉफ्टवेयर को फाइल्स के समूह की मदद से ही बनाया जाता है। जिस तरह से हमें किसी भी text file को open करने के लिए हमें MS Word, MS Excel, Wordpad और Notepad की आवश्यकता होती है।

फाइल वह है जिसके जरिए प्रोग्राम, सॉफ्टवेयर और डाटा आदि को कंप्यूटर में सुरक्षित रखा जाता है। फाइल्स की मदद से ही कंप्यूटर में मौजूद सभी तरह के प्रोग्राम और सॉफ्टवेयर को चलाया जाता है और हमारा डाटा इन्ही फाइल्स में सुरक्षित रहता है।

फाइल के प्रकार | Type of Files

कंप्यूटर में मौजूद फाइल्स कई प्रकार की होती हैं। इन सभी फाइल्स को उनके आइकॉन और एक्सटेंशन से पहचाना जाता है।

1. डॉक्यूमेंट फाइल (Document File)

2. मल्टीमीडिया फाइल (Multimedia File)

3. प्रोग्राम फाइल (Program File)

4. सिस्टम फाइल (System File)

5. सर्वर फाइल (Server File)

डॉक्यूमेंट फाइल (Document File)

सभी तरह की Text Files को Document Files के श्रेणी में रखा जाता है। क्योंकि सभी तरह की डॉक्यूमेंट फाइल्स में डाटा को सुरक्षित रखा जाता है, जो कि टेक्स्ट के रूप में मौजूद होता है।

डॉक्यूमेंट फाइल्स के अंतर्गत Pdf, MS Word, MS Excel, MS PowerPoint, MS Notepad और MS Wordpad इन सभी फाइल्स को रखा जाता है। इन सभी फाइल्स में डाटा को लिखित रूप में रखा जा सकता है। इन सभी फाइल्स में अपनी जानकारी सभी जानकारिओं को रखने के अलावा, हम इन फाइल्स को बड़ी आसानी से किसी भी व्यक्ति share भी कर सकते हैं।

डॉक्यूमेंट फाइल्स के अंतर्गत आने वाले कुछ खास extentions को ही इस्तेमाल में लिया जाता है जैसे – .txt, .doc, .wpd. .odt, .rtp आदि।

मल्टीमीडिया फाइल (Multimedia File)

अपने कंप्यूटर या मोबाइल में इस्तेमाल होने वाले उन सभी वीडियो, ऑडियो और फोटोज आदि फाइल्स को मल्टीमीडिया फाइल्स की श्रेणी में ही रखा जाता है।

इन सभी तरह के फोर्मट्स को आपके मनोरंजन के लिए ही बनाया जाता है। जिनको हम किसी भी म्यूजिक डिवाइस, कंप्यूटर, मोबाइल, की सहायता से देख या सुन सकते हैं। इन सभी मीडिया फाइल को हम कुछ खास एक्सटेंशन के जरिए ही पहचान सकते हैं, जो कि नीचे दी गई टेबल के जरिए हमने समझाने का प्रयास किया है।

ऑडियो (Audio).mp3, .acc, .wav
वीडियो (Video).3gp, .mp4, .flv, .m4v, .mpeg
फोटो या इमेज (Photo or Image).gif, .png, .jpg, .gif, .icon, .svg, .bmp

प्रोग्राम फाइल (Program File)

कंप्यूटर के लिए जितने भी प्रोग्राम और सॉफ्टवेयर बनाए जाते हैं। वह सभी कई तरह की फाइल्स को मिलाकर बनाए जाते हैं। प्रोग्राम फाइलों को एक प्रोग्रामिंग भाषा (Programming Language) के जरिए ही create किया जाता है प्रकार की कृत्रिम भाषा है। इस भाषा का प्रयोग Programmer कम्प्टूयर प्रोग्रामिंग करते समय करते हैं।

सभी तरह की aaplications को प्रोग्राम फाइल भी बोला जाता है। प्रोग्राम फाइल को मुख्य रूप से चार तरह के एक्सटेंशन जैसे – .com, .exe, .bat, .sys आदि के जरिए पहचाना जाता है।

उदाहरण के तौर पर जब भी हम इंटरनेट से किसी भी सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करते हैं तो वह एक फाइल्स के बंडल के रूप में डाउनलोड होती है। इन सभी फाइल्स को ही प्रोग्राम फाइल्स कहा जाता है।

सिस्टम फाइल (System File)

सिस्टम फाइल हमारे कंप्यूटर की मुख्य फाइलों को कहा जाता है। इन फाइल्स की मदद से ही हम अपने कंप्यूटर के Oprating System को चला पाते हैं। हम जब भी अपने कंप्यूटर में विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को इनस्टॉल करते हैं, तो यह फाइल्स C drive में विंडोज नाम के folder में automatically सेव हो जाती हैं।

आपके कंप्यूटर की सिस्टम फाइल्स, जब भी delete या currupt होती है तो उस स्थिति में आपके कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम के क्रैश होने की सम्भावनाएँ बढ़ जाती हैं।

इन सभी एक्सटेंशन्स को हम निम्न प्रकार के एक्सटेंशन से पहचाना जाता है, जैसे – .exe, .bak, .dll, .json, .dat, .dmp, .inf, .cgi आदि।

आर्चिव फाइल (Archive File)

Archive Files को हम एक तरह से Backup Files भी कह सकते हैं। आर्चिव फाइल्स के अंदर डाटा रखने का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि इसमें हमारे डाटा की फाइल्स का साइज काफी ज्यादा काम हो जाता है। जिसके कारण उसको शेयर करना और उसका बैकअप रखना बहुत ही आसान हो जाता है।

हम इसकी मदद से ज्यादा से ज्यादा फाइल्स को कम्प्रेस करके एक सिंगल आर्चिव फाइल में बदल सकते हैं। अगर आप कंप्रेस्ड आर्चिव फाइल में मौजूद फाइल्स को फिर से इस्तेमाल में लेना चाहते हैं तो आपको उन्हें डी-कम्प्रेस करना होगा। आर्चिव फाइल को हम पासवर्ड के जरिए लॉक भी कर सकते हैं।

इसके लिए Winrar और WinZip जैसे सॉफ्टवेयर या ऍप्लिकेशन्स का इस्तेमाल किया जा सकता है। आर्चिव फाइल के कुछ एक्सटेंशन मुख्य है – .zip, .7z, .rar, .bak आदि।

सर्वर फाइल (Server File)

सर्वर फाइल्स की मदद से ही हम इंटरनेट पर ऑनलाइन ऍप्लिकेशन्स (Web Applications) और Web Site को चला पाते हैं। इन सभी सर्वर फाइल्स को हमेशा सर्वर पर ही load या save करके रखा जाता है। जिससे कि यूजर अपनी सुविधा के अनुसार उन्हें एक्सेस कर सके।

फाइल को हिंदी में क्या कहते हैं? | File Meaning in Hindi

फाइल को हिंदी में कई नामों से जाना जाता है, जैसे – संचिका, दस्तावेज, दर्ज करना, क्रम रखना, दाखिल करना, श्रेणी वद्ध या नत्थी करना, सूचना दर्ज करना, कंप्यूटर में कोई फाइल या दायर करना आदि।